RTI Tenders Seed Congress Photo Gallery

आर टी आई सूचना का अधिकार

टेंडर्स सक्रिय टेंडर्स ब्राउज़ करें

बीज कांग्रेस 6 वीं राष्ट्रीय बीज कांग्रेस

चित्र विथिका शोकेस देखें

वीं

6
राष्ट्रीय बीज
कांग्रेस
2013

हमे
खोजें
गूगल मैप
पर

उपयोगी
वेबसाइट
लिंक्स

 

उत्तर प्रदेश बीज विकास निगम में आपका स्वागत है


श्री आदित्य नाथ योगी
 माननीय मुख्यमंत्री

श्री सूर्य प्रताप शाही
माननीय कृषि मंत्री

श्री राणा अजीत प्रताप सिंह,
 माननीय अध्यक्ष

श्री एस० आर० कौशल,
 प्रबन्ध निदेशक
उत्तर प्रदेश
बीज विकास निगम

श्री राजेश्वर सिंह
माननीय उपाध्यक्ष

सम्पूर्ण विश्व की 1/6 से अधिक जनसंख्या भारतवर्ष में निवास करती है, जबकि कृषि योग्य भूमि विश्व की कुल कृषि योग्य भूमि के सापेक्ष लगभग 40 प्रतिशत है। स्पष्ट है कि प्रति व्यक्ति कृषि योग्य भूमि की उपलब्धता विश्व के विकसित राष्ट्रों की तुलना में बहुत कम है। अतः देश को खाद्यान्न में स्वावलम्बी होने के लिए प्रति हेक्टेयर उत्पादन एवं उत्पादकता में बृद्धि करना नितान्त आवश्यक है। उत्पादन एवं उत्पादकता में बृद्धि के लिए कृषि निवेशों की अह्म भूमिका होती है, जिसमें से बीज एक महत्वपूर्ण निवेश है। वैज्ञानिक अनुसंधानों से विदित होता है कि 15-20 प्रतिशत की उत्पादन में वृद्धि उच्च गुणवत्तायुक्त बीजों के उपयोग से होती है। हरित क्रान्ति के पश्चात् यह आवश्यक हो गया था कि देश की कृषि संस्थाएं उच्च गुणवत्तायुक्त बीजों का उत्पादन कर कृषकों को उपलब्ध करायें।

उत्तर प्रदेश राज्य के विभाजन के फलस्वरूप उत्तर प्रदेश बीज एवं तराई विकास निगम, जिसका मुख्यालय उत्तराचंल में अवस्थित था, अधिकांश ढॉंचा उत्तराचंल राज्य में चला गया। प्रदेश में गुणवत्तायुक्त बीजों की आवश्यकता के दृष्टिगत दिनांक 29 जून, 2001 को उत्तर प्रदेश बीज विकास निगम की स्थापना का निर्णय हुआ एवं दिनांक 15 फरवरी, 2002 को कम्पनी अधिनियम की धारा 25 के अन्तर्गत निगम का पंजीकरण किया गया। दिनांक 09 दिसम्बर 2002 को उत्तर प्रदेश बीज एवं तराई विकास निगम की आस्तियों एवं दायित्वों के विभाजन सम्बन्धी समझौता ज्ञापन निष्पादित हुआ तथा दिनांक 10 दिसम्बर, 2002 से निगम द्वारा व्यवसाय प्रारम्भ किया गया।निगम द्वारा व्यवसाय प्रारम्भ किया गया।

विशेष कार्यक्रम

विशेष कार्यक्रम